जलन को शांत करने में मदद कर सकता है। सिटज़ बाथ इस्तेमाल करने का प्रयास करें। पानी में बीटाडीन का घोल या डॉक्टर द्वारा सुझाए गए अन्य एंटीसेप्टिक घोल का उपयोग किया जा सकता है। 

सिट्ज बाथ

एक बार में कम से कम 15 मिनट तक सूजन से राहत पाने के लिए गुदा वाले हिस्से पर आइस पैक या कोल्ड कंप्रेस लगाएं।

कोल्ड कंप्रेस

शोध के अनुसार, नारियल के तेल में मज़बूत एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन मिटाने वाले) गुण होते हैं इसमें एनाल्जेसिक (दर्द निवारक) गुण होते हैं जो बवासीर के कारण होने वाली परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं।

नारियल का तेल

मल त्याग के बाद टॉयलेट पेपर इस्तेमाल करने से मौजूदा बवासीर में जलन हो सकती है। आप ऐसे वाइप्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जिनमें एंटी-हेमरॉइड (बवासीर-रोधी) तत्व होते हैं, जैसे कि विच हेज़ल या एलोवेरा।

वेट वाइप्स

बवासीर के लक्षणों को असरदार तरीके मे नियमित पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज़ करना बवासीर के लिए एक लॉन्ग-टर्म सॉल्युशन साबित हो सकता है। 

व्यायाम

रात में भरपूर नींद लेने से भी पाचन स्वास्थ्य अच्छा बनाए रखने में मदद मिलती है। ऐसा होने पर, आँतों से मल भी आसानी से होकर जा पाता है।

अच्छी नींद लेना

जब आपका शरीर अच्छी तरह से हाइड्रेटेड (पानी की कमी न होना) होता है, तो आपका पाचन स्वास्थ्य बेहतर होने लगता है जिससे आपको मल त्याग के दौरान दबाव कम डालना पड़ता है।

हाइड्रेशन

भरपूर मात्रा में अघुलनशील और साथ ही घुलनशील फाइबर वाला संतुलित आहार लेने से आपको नियमित रूप से मलत्याग करने में मदद मिलेगी। 

ज़्यादा फाइबर वाला आहार